Tap to Read ➤

किस्मत की लकीर शायरी

आज की स्टोरी में Kismat Shayari, किस्मत की लकीर शायरी का बेहतरीन चुनिंदा कलेक्शन लेकर आएं ।
काश किस्मत भी नींद की तरह होती,
हर सुबह खुल जाती.
जिनका मिलना किस्मत में नही होता,
उनसे मोहब्बत कसम से कमाल की होती है.
किस्मत का रोना मैंने छोड़ दिया,
अपनी उम्मीदों को मैंने हौसलों से जोड़ दिया.
ज़िन्दगी है कट जाएगी,
किस्मत है, किसी दिन पलट जाएगी.
मंजूर है मुझे हर शर्त वो तेरी,
मैं किस्मत में नहीं, खुद पर यकीं रखती हूं.
तुम मिले तो यूँ लगा,
हर दुआ कबूल हो गयी,
कांच सी टूटी क़िस्मत मेरी
हीरों का नूर हो गयी.
कुछ लोग किस्मत की तरह होते हैं,
जो दुआ से मिलते हैं,
और कुछ लोग दुआ की तरह होते हैं,
जो किस्मत बदल देते हैं..
प्यार हो तो किस्मत में हो,
वरना दिलों में तो सबके होता हैं.
किस्मत की लकीर शायरी
ऐसी और शायरियां पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।
और पढ़ें