Tap to Read ➤

ada Jafri की मशहूर शेरो शायरी

आज की स्टोरी में ada Jafri Shayari, अदा जाफ़री शेरो शायरी का बेहतरीन चुनिंदा कलेक्शन लेकर आएं
गुल पर क्या कुछ बीत गई है
अलबेला झोंका क्या जाने
हमारे शहर के लोगों का अब अहवाल इतना है
कभी अख़बार पढ़ लेना कभी अख़बार हो जाना
ada Jafri 2 Line poetry
मैं आँधियों के पास तलाश-ए-सबा में हूँ
तुम मुझ से पूछते हो मिरा हौसला है क्या
अगर सच इतना ज़ालिम है तो हम से झूट ही बोलो
हमें आता है पतझड़ के दिनों गुल-बार हो जाना
ऐडा जाफरी हिंदी शायरी
होंटों पे कभी उन के मिरा नाम ही आए
आए तो सही बर-सर-ए-इल्ज़ाम ही आए
जिसकी बातों के फ़साने लिक्खे
उसने तो कुछ न कहा था शायद
अदा जाफ़री की शायरी
जिस की जानिब ‘अदा’ नज़र न उठी
हाल उस का भी मेरे हाल सा था
कोई ताइर इधर नहीं आता
कैसी तक़्सीर इस मकाँ से हुई
Ada Jafri Shayari
अदा जाफ़री शायरी
पढ़िए - ada jafri की बेहतरीन शायरियां!
👇
और पढ़ें