Tap to Read ➤

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा

हिंदी शायरियां का बेहतरीन चुनिंदा कलेक्शन - निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा
निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया,
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का..
भरोसा रख मुहब्बत पर, मुहब्बत रंग लाएगी,
ज़माना हार जाएगा, मुहब्बत जीत जाएगी..
आज शाम हुई कल फिर सूरज निकलेगा,
भरोसा रख अपने आप पर हर पल तू निखरेगा..
जब सब तोल रहे थे मुझे ना उम्मीदी के तराज़ू में,
एक वही तो था जिसने भरोसा जताया मुझ में..
रोक लो नैनों को लकीरें भी बह जाएंगीं वरना,
आज रोक लो हमें, कल का भरोसा मत करना..
जिंदगी का भरोसा नहीं कब तक साथ निभाएगी,
पर मौत पर ऐतबार है एक दिन ज़रूर आएगी..
बहुत ख़ामोशी से टूट गया,
वो एक भरोसा जो उस पे था..
क्यों भरोसा करूं किसी और पर,
जब खुद की आंखें खुद को धोखा दे..
Read more
Hindi Shayari
इस तरह के और बेहतरीन शायरियां पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।
और पढ़ें