Tap to Read ➤

Shayad Meri Kismat Mein Pyar Nahin

In this post Hindi Shayari Kismat Shayari New Shayari, Meri Kismat Shayari. Kismat Shayari 2022, Kismat poetry,
ऐसा नहीं के दिल में तेरी तस्वीर नहीं थी,
पर हाथों में तेरे नाम की लकीर नहीं थी.!!
ख्वाहिश तो ना थी किसी से दिल लगाने की,
मगर जब किस्मत में ही दर्द लिखा था,
तो मोहब्बत कैसे ना होती.!!
किस्मत पर रोना मैंने छोड़ दिया
अपनी उम्मीदों को मैंने हौसलों से जोड़ दिया...
मैंने छोड़ दिया है किस्मत पर यकीन करना
अगर लोग बदल सकते है तो किस्मत क्या चीज है...
मेरे इरादे मेरी तक़दीर बदलने को काफी हैं
मेरी किस्मत मेरी लकीरों की मोहताज़ नहीं
झूठी तसल्लियों के सिवा कुछ ना दे सका
वो क़िस्मत का देवता भी शायद ग़रीब था.....
जब भी रब दुनिया की किस्मत में चमत्कार लिखता है.
मेरे नसीब में थोड़ा और इंतज़ार लिखता है.
मेरी चाहत को मेरे हालात के तराजू में कभी मत तोलना
मेने वो ज़ख्म भी खाए है जो मेरी किस्मत में नहीं थे.
जिनका मिलना नहीं होता किस्मत में,
उनकी यादें कसम से कमाल की होती हैं..
लाश पता नही किस बदकिस्मत की थी
मगर क़ातिल के पैरो के निशान बड़े हसीन थे...

Kismat Shayari

Kismat Hindi Shayari , मेरी किस्मत शायरी, Kismat Shayari 2022, और देखने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।
Read more